पाक विमान हादसा: हादसे में सामने आई पायलट की लापरवाही, जाने क्या मिली थी पायलट को चेतावनी

0

बीते शुक्रवार को पाकिस्तान के कराची में हुए भयंकर विमान हादसे की एक बहुत अहम वजह सामने आई है. जिसमें पायलट द्वारा दो बार चेतावनी को अनदेखा करने की बात बतायी गयी है. नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ने बताया है कि विमान चालक दल को दो बार चेतावनी दी गई थी, जिसे पायलट ने नजरअंदाज कर दिया था. यही इस बड़े हादसे की अहम वजह रही.

पाकिस्तान नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ने हादसे के संबंध में बताया है कि पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआईए) के पायलट ने विमान की ऊंचाई और गति के बारे में जारी की गई चेतावनी को नजरअंदाज कर दिया था, क्योंकि पायलट का मानना था कि विमान उतरने के लिए पूरी तरह से तैयार है.

जिओ न्यूज ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि दुर्घटनाग्रस्त विमान ए320 एयरबस में 99 लोग सवार थे, इनमें से 97 की मौत हो गई और सिर्फ दो लोग ही बच पाए है. रिपोर्ट के मुताबिक, हवाई यातायात नियंत्रण कक्ष की ओर से पायलट को करीब ढाई बजे जब हवाई पट्टी से उसकी दूरी सिर्फ 15 नॉटिकल मील बची थी, पहली चेतावनी जारी की गई. इसमें कहा गया कि पायलट विमान को 7000 फीट से 10000 फीट की ऊंचाई पर ले जाए.

लेकिन पायलट की ओर से जवाब यही मिला कि वह विमान की इस ऊंचाई से संतुष्ट है और प्लेन को सुरक्षित ढंग से उतार लेगा. इसके बाद जब विमान की हवाई पट्टी से दूरी करीब 10 मील ही रह गई, तब एटीसी ने दूसरी चेतावनी दी, तब विमान 7000 फीट की ऊंचाई से 3000 फीट पर आ चुका था. इस बार भी पायलट को विमान को ऊंचाई पर ले जाने के लिए कहा गया और पहले की तरह ही बार भी पायलट ने विमान को सुरक्षित उतार लेने की बात कही.

आपको बता दें कि फ्लाइट पीके-8303 ने लाहौर से उड़ान भरी थी और कराची के जिन्ना एयरपोर्ट पर इसे लैंडिग करनी थी. लैंडिंग के मात्र एक मिनट पहले ही विमान हादसे का शिकार हो गया.विमान रनवे के कुछ दूर में बसे इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हो गया.

अपनी आंखों से इस भयंकर हादसे को देख चुके एक शख़्स ने बताया कि विमान पहले एक खंबे से टकराया था और कुछ सेकंड बाद ही नीचे गिरते ही पूरे आसमान में धुंआ धुंआ हो गया था.

प्लेन में बैठे 99यात्रियों में से 97 यात्रियों ने अपनी जान गंवा दी वही हादसे में बचे दो लोगों में से एक बैंक ऑफ पंजाब के प्रेसिडेंट जफर मसूद हैं और दूसरे मोहम्मद जुबैर. जफर मसूद ने बताया कि विमान ठीक तरीके से उड़ रहा था, लेकिन लैंडिंग से ठीक पहले तीन बार झटके महसूस हुए थे. जुबैर का फिलहाल कराची के एक अस्पताल में इलाज चल रहा है.

जुबैर उन 99 यात्रियों में से एक थे जो इंटरनेशनल एयरलाइंस के एयरबस ए-320 एयरक्राफ्ट से सफर कर रहे थे, जो एयरपोर्ट के पास घनी आबादी वाले इलाके में हादसे का शिकार हो गया था। हादसे में नौ बच्चों समेत 97 लोगों की मौत हो गई।

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और खबरें