उत्तराखंड के जंगलों में लगी भीषण आग की खबर झूठी , सीएम ने बताई सच्चाई

0

हल्द्वानीः उत्तराखंड जहां कोरोना से लड़ रहा है। वहीं इस संकट की घड़ी के बीच उत्तराखंड के जंगलों में लगी भीषण आग की खबरें और फोटोज सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही हैं। कई लोगों ने इसकी फोटो अपने ट्वीटर और फेसबुक एकाउंट पर शेयर की हैं। इसमें कहा जा रहा है कि आग लगने के कारण उत्तराखंड जंगल की 71 हेक्टेयर जमीन पूरी तरह से बर्बाद हो गई है। इतना ही नही यह भी दावा किया जा रहा है कि इस आग से दो लोगों की जान गई है और कई जानवरों की मौत हुई है।

बता दें कि कुछ लोग सोशल मीडिया पर तस्वीरें पोस्ट कर दावा कर रहे हैं कि पिछले कुच दिनों से उत्तराखंड के जंगल आग में जल रहे हैं। लेकिन कोई इसकी सुध लेने वाला नहीं है। लेकिन हम आपको बता दें कि यह खबरें पूरी तरह से झूठी हैं। पीआईबी (प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो) उत्तराखंड ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी इसे अपने ट्वीटर एकाउंट पर शेयर किया है। इसमें लिखा है कि ‘सोशल मीडिया में दिखाया जा रहा है कि उत्तराखंड के जंगलों में आग बढ़ती जा रही है लेकिन सरकार इस पर ध्यान नहीं दे रही है। यह तस्वीरें पुरानी हैं और इनमें से कई दूसरे देशों से संबंधित हैं।

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके सुने उत्तराखंड पुलिस का बयान।

👇👇👇👇👇👇

https://www.facebook.com/732711210148431/posts/2929321473820716/

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी ट्वीट किया कि ‘चीन और चिली के जंगलों मे लगी आग वर्ष 2016 और 2019 की वनाग्नि की पुरानी तस्वीरों के माध्यम से उत्तराखंड के खिलाफ एक भ्रामक और सत्य से परे दुष्प्रचार चल रहा है, कृपया ऐसी अफवाहों पर ध्यान न दें और ऐसी झूठी खबरों से सावधान रहें’ । उन्होंने कहा कि उत्तराखंड देवभूमि है। लोग इसके लिए प्रार्थना कर रहे हैं, लेकिन फर्जी कैंपेन के तहत प्रार्थना करना गलत है। हमें प्रत्येक भारतीय की भलाई के लिए प्रार्थना करनी चाहिए। उत्तरखंड के वन विभाग ने भी आग की खबरों को झूठी बताया है

आपकों बता दें कि हर वर्ष गर्मी के मौसम में उत्तराखंड के जंगलों में आग लगती है और ऐसा होना हर साल आम बात है । पर जो तस्वीर और वीडियो शेयर हो रहें है वो पुरानी है। आप से निवेदन है कि ये सच्चाई और लोगों तक पहुंचाए जिससे कि गलत चीज़े आगे न शेयर की जाए।

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और खबरें