हाल ही में विशाखापट्टनम में हुए गैस कांड की ये है असली वजह

0

इसी महीने (मई ) विशाखापट्टनम स्थित एलजी पॉलिमर कंपनी में जहरीली गैस का रिसाव हुआ था, जिसके चलते 12 लोगों ने अपनी जान गवाई थी और इसके संपर्क में आने से कई लोग बीमार भी पड़ गए थे. जहरीली गैस के फैलने के बाद कंपनी के आसपास के गांवों को खाली कराया गया था.

आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में एलजी पॉलिमर्स कंपनी की लापरवाही के कारण स्टाइरीन गैस का रिसाव हुआ था. इस बात की जानकारी मॉनिटरिंग कमेटी ने नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के समक्ष दाखिल अपनी रिपोर्ट में दी है. मॉनिटरिंग कमेटी द्वारा मिली रिपोर्ट में बताया गया है कि एलजी पॉलिमर्स कंपनी की लापरवाही और ट्रेनिंग के अभाव में गैस रिसाव हुआ, जिसमें 12 लोगों की मौत हो गई. इस हादसे में 22 जानवर भी मारे गए थे. मॉनिटरिंग कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि एलजी पॉलिमर्स कंपनी ने स्टाइरीन गैस प्लांट में बुनियादी सुरक्षा मानकों का पालन नहीं किया था. साथ ही 800 टन से ज्यादा स्टाइरीन गैस को प्लांट से निकाला गया. आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के पूर्व जस्टिस बी. शेषासायण रेड्डी के नेतृत्व वाली जॉइंट मॉनिटरिंग कमेटी ने फैक्ट्री सेफ्टी इंस्पेक्टर्स और सेफ्टी स्टैंडर्ड के पैन इंडिया ऑडिट की भी जांच की.

इसके अलावा मॉनिटरिंग कमेटी की रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि गैस का टैंक पुरानी डिजाइन का है. साथ ही वहां सुरक्षा उपकरण भी नहीं उपलब्ध कराए गए थे. इस बात का भी खुलासा हुआ है कि गैस रिसाव की घटना से कैसे निपटा जाए, इसकी जानकारी न तो फैक्ट्री के इंस्पेक्टर को थी और न ही फायर अधिकारियों को थी. इसके अलावा गैस रिसाव के बाद विशाखापट्टनम और विजयनगरम जिला प्रशासकों के बीच राहत व बचाव कार्य के दौरान तालमेल भी नहीं था.

इस हादसे के बाद आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने विशाखापट्टनम घटना स्थल का दौरा किया था और पीड़ितों से मुलाकात की थी. इसके साथ ही सीएम रेड्डी ने गैस रिसाव में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को एक-एक करोड़ रुपये के मुआवजे देने की बात कही थी और साथ ही साथ इसकी चपेट में आने वाले पीड़ितों को 10-10 लाख रुपये के मुआवजे का भी ऐलान किया था.

ये भी देखें : 👇

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और खबरें