कोरोना महामारी में लोगों की मुस्कान की वजह बना विशालाक्षी फाउंडेशन, जरुरतमंदों को बाटें जरूरी सामान

कोरोना की दूसरी लहर ने गरीबों के साथ साथ आम आदमी और अमीरों को भी अपनी चपेट में ले लिया है।

ऐसी  परिस्थिति में विशालाक्षी फाउंडेशन के युवा कार्यकर्ताओं ने लोगों को ऑक्सीजन, हॉस्पिटल बैड, प्लस्मा इत्यादि की सत्यापित रिसोर्सेज से जोड़ 350 से अधिक जाने बचाई । इसके साथ साथ गरीब दिहाड़ी मजदूर और मलिन बस्तियों में रहने वालों तक प्रतिदिन 500 पैकेट पक्का भोजन और जरूरतमंदों तक राशन भी पहुचा रहे है । फाउंडेशन के  कार्यकर्ता छोटे गरीब शिशुओं के लिए प्रतिदिन 50 दुध के पैकेट भी बाट रहे है।

संस्था के संस्थापक निलय अग्रवाल स्वयं पिछले 3 हफ्तों से खाद्य सामग्री बाट रहे है इसमें इनका सहयोग विशालाक्षी फाउंडेशन के कार्यकर्ता अलिंद अग्रवाल, ओम, राजवीर, आस्था, विनय, अर्चिस, एनी, निकिता, देविका आदि दे रहे है।

विशालाक्षी फाउंडेशन ने अपनी नयी मुहिम के अंतर्गत किसी भी गरीब परिवार की सूचना ट्विटर के माध्यम से देने पर चौबीस घंटे के अन्तराल में मदद पहुचाने का प्रण भी लिया है।


ट्विटर हैंडल -Vishalakshi_F

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twelve + 3 =