“एमएसएमएस को लाभ पहुंचने के लिए उन्हें पंजीकृत होना आवश्यक”: नवनीत सहगल

सी आई आई द्वारा आयोजित तथा क्रेडलीक्स, सिडबी एवं ऐटोस द्वारा प्रायोजित सी आई आई एमएसएमई कॉन्क्लेव के द्वितीय संस्करण का सफल आयोजन आज वर्चुअल माध्यम से किया गया | इस कॉन्क्लेव में लघु, तथा मंझोले उद्योगों द्वारा नविन प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल पे तथा नवीन वित्त व्यवस्थाओं पे प्रकाश डाला गया जिससे की इन्हे अधिक से अधिक लाभ मिल सके |

कॉन्क्लेव के मुख्य अतिथि श्री नवनीत सहगल, अपर मुख्या सचिव, एमएसएमई एवं निर्यात प्रोत्साहन ने उद्योगों में प्रौद्योगिकी के महत्त्व को समझते हुए कहा की इसके माध्यम से उद्योग अपने मुनाफे को कई गुनाह बढ़ा सकते है | साथ ही साथ उन्होंने इस बात पे भी ज़ोर दिया की एमएसएमएस अधिक से अधिक संख्या में खुद को पंजीकृत करे जिससे की वे सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सके | उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सस्ती दरों पर प्रदान किये जारहे विभिन्न प्रौद्योगिकी सहायताओ क बारे में भी बताया | उन्होंने बताया की मोरादाबाद तथा वाराणसी में कम्प्पूटर एडिड डिज़ाइन तथा अन्य कॉमन क्लाउड सर्विस के प्रयोग हेतु कई पायलट परियोजनाएं चलाई जारही है |

उन्होंने ये भी बताय की उत्तर प्रदेश सरकार ओडीओपी उद्योगों को विभिन्न इ-कॉमर्स पाटलो जैसे अमेज़न, फ्लिपकार्ट, ईबे आदि में पंजीकृत होने में सहायता प्रदान कर रही है | एर्न्स्ट & यंग के श्री विनय शर्मा ने उत्तर प्रदेश सरकार की परियोजनाओं के बारे में बताया जिसके माध्यम से सरकार एमएसएमएस को वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट के तहत लाभ पंहुचा रही है तथा उन्हें इ-कॉमर्स पोर्टल www .odopmart .com से अपने उत्पादों को ऑनलाइन माध्यम से भी बेच सके |

श्री कीरोन चोपड़ा, अध्यक्ष, सी आई आई उत्तर प्रदेश एमएसएमई पैनल तथा सीएमडी चोपड़ा रेटेक रबर प्रोडक्ट्स लिमिटेड ने बताया की आज के समय में एमएसएमएस द्वारा उनके कुल ट्रांसक्शन का करीब ७२% डिजिटल माध्यम से किया जारहा है | साथ ही साथ उन्होंने सरकार को एमएसएमईस को बढ़ावा देने एवं डिजिटल प्लेटफार्म से जोड़ने हेतु हर संभव प्रयास के लिए धन्यवाद भी दिया |

श्री विनम्र अग्रवाल, उपाध्यक्ष, सी आई आई उत्तर प्रदेश एवं सीईओ टेक्निकल एसोसिएट्स ग्रुप ने सरकार के प्रयासों को सराहना करते हुए बताया की किस प्रकार सरकार लघु उद्योगों को नवीन प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल को प्रोत्साहित कर रही है जिससे उन्हें अधिक से अधिक फायदा होसके |

कप्तान जतिन शर्मा, को -फाउंडर एवं स्ट्रेटेजी एवं डिज़ाइन निदेशक, ऐटोस डिजिलोग ने बताया को किस प्रकार से एमएसएमईस को लोगिस्टिक सप्लाई चैन में चुनोतियो का सामना करना पड़ता है और साथ ही साथ किस प्रकार डिजिटल माध्यम से इन चुनोतियो को दूर किया जासकता है |

श्री दीपक तलवार, नेशनल सिक्योरिटी अफसर, माइक्रोसॉफ्ट इंडिया ने बताया कि उद्योगों में डिजिटाइज़शन से होने वाले लाभ तथा चुनोतियो के बारे में बताया | उन्होंने यह भी बताया कि किस प्रकार से प्रौद्योगिकी तथा संसाधनों के परस्पर समन्वय के माध्यम से इन चुनोतियो को काम किया जासकता है |

श्री अजय ठाकुर, हेड – ऐसेमी तथा स्टार्टअप, बीएसई ने बताया कि किस प्रकार से उद्योग लिस्टिंग के माध्यम से अपने वित्त प्रबंधन को और मज़बूत करसकते है |

सी आई आई एमएसएमई कॉन्क्लेव के द्वारा आधुनिक समय में मौजूद नयी वित्तीय विकल्पों पर चर्चा भी हुई | श्रीमति मानसी कुलकर्णी, एसोसिएट डायरेक्टर, क्रिसिल, श्री परमिट जोशी, निदेशक, क्रेडलीक्स, श्री कैलाशकुमार वरोड़िए, मुख्य वित्तय अफसर, आरएक्साईएल एवं श्री अभिषेक सिंह, मुख्य बिज़नेस अफसर, लेनडिंग्कार्ट आदि दिग्गजों ने एमएसएमईस के लिए उपलब्ध एक्सपोर्ट फैक्टरिंग तथा बिल डिस्कॉउंटिंग जैसे तमाम वित्तीय व्यवस्थाओं के बारे में बताया |

श्री माधब चक्रबोर्ती, संयुक्त निदेशक तथा रीजनल हेड, इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ पैकेजिंग ने बताया कि किसी भी ऑनलाइन पटल पे उत्पादों को बेचने में उनकी पैकेजिंग अत्यंत अधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है |

श्री अविनाश गुप्ता, प्रबंध निदेशक, डन एंड ब्रैडस्ट्रीट इंडिया ने एमएसएमईस के ईएससी स्कोर कि महत्ता के बारे में बताया तथा श्रीमती भारती बालाकृष्णन, कंट्री हेड, शापिफ़य इंडिया ने विभिन्न सोशल मीडिया उपकरणों के बारे में बताया जिसके माध्यम से एमएसएमई ऑनलाइन पाटलो पे अपनी मज़बूत पकड़ बना सकती है |

कांफ्रेंस में एमएसएमईस, स्टार्टअप्स, तथा शैक्षणिक संस्थानों कि प्रतिभागिता रही |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty − four =