कोरोना वायरस: सामने आए कोरोना के नए लक्षण, अगर आप में है तो तुरंत करें डॉक्टर से सम्पर्क..

कोरोना वायरस की दूसरी लहर बेहद भयावह रूप धारण कर रही है. कई संक्रमितों में तो कोरोना के लक्षण भी नहीं दिख रहे है लेकिन फिर भी वो कोरोना संक्रमित पाए जा रहे हैं. कोरोना का ये न्यू स्ट्रेन अपने साथ विभिन्न प्रकार के लक्षण लेकर आया है. पहले लोगों को बुखार, खांसी, जुकाम, नाक बहना, सांस में तकलीफ, बदन दर्द और लॉस ऑफ टेस्ट एंड स्मैल से जुड़ी समस्या थी. लेकिन इस नए स्ट्रेन के कुछ और नए लक्षण मिले हैं.
आइए आपको बताते है क्या है कोरोना के नए लक्षण –
* ज़ीरोस्टोमिया- नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ की रिपोर्ट की माने तो कोरोना वायरस के मरीजों में इस बार एक ओरल सिम्पटम्स देखा जा रहा है. डॉक्टर इसे ज़ीरोस्टोमिया (ड्राय माउथ) कह रहे हैं. इसमें मुंह के अंदर का सैलिवरी ग्लैंड काम करना बंद कर देता है और इंसान का मुंह सूखने लगता है. ऐसा तब होता है होता है जब वायरस किसी इंसान की ओरल लाइनिंग और मसल फाइबर पर अटैक करता है.
* कोविड टंग- कोविड टंग भी इस नए स्ट्रेन का एक नया लक्षण है. इसमें इंसान की जीभ का रंग सफेद पड़ने लगता है. जुबान के ऊपर हल्के-हल्के धब्बे पड़ने लगते है. इसके साथ ही मुंह के अंदर लार बनना बंद हो जाती है जो उसे हानिकारक बैक्टीरिया से बचाने का काम करती है.
* चबाने-थूकने में कठिनाई- इस लक्षण में कोरोना संक्रमित को चबाने और थूकने में काफी परेशानी होती है. ये जुबान की सेंसेशन को भी प्रभावित करता है. मुंह में अल्सर के कारण लगातार चबाने से मांसपेशियों में दर्द की शिकायत भी हो सकती है.
* पिंक आई- कोरोना के इस नए स्ट्रेन में आंखों से संबंधित एक नया लक्षण सामने आया है. चीन में हुई एक हालिया स्टडी के के अनुसार, कोविड-19 से संक्रमित मरीजों की आंखों में हल्का लालपन देखा गया है. इसके साथ ही आंखों में हल्की सूजन और लगातार पानी बहने की समस्या भी हो रही है.
* कान की समस्या- कई मरीजों ने कम सुनाई देने या कानों में दबाव महसूस होने की बात कबूल की है. इसके अलावा कुछ मरीजों ने कान में दर्द की शिकायत भी की है. सीडीसी के अनुसार, कोई भी असामान्य लक्षण दिखने पर तुरंत उसकी जांच कराएं.
* डायजेस्टिव सिस्टम जिसमें गैस्ट्रो- इंटसटाइनल GI सहित लिवर, पैंक्रियाज और गॉल ब्लैडर भी शामिल है. इनका ज्यादा ख्याल रखने की जरूरत है. कोविड GI के फंक्शन को प्रभावित कर सकता है, जिसका काम शरीर से इलेक्ट्रोलाइट्स और फ्लूड को एब्जॉर्ब करना है.
वहीं, अगर बात करें कोविड-19 के लॉन्ग टर्म्स लक्षणों की तो उसमें भी कई तरह की दिक्कतें देखने को मिली हैं. कमजोरी, ब्रेन फॉग, चक्कर आना, कंपकंपी, इंसोमेनिया (अनिद्रा), डिप्रेशन, एन्जाइटी, जोड़ों में दर्द और सीने में जकड़न जैसी शिकायतें सामने आ रही हैं.
आपको बता दें कि हेल्थ ऑथोरोटीज ऐसा दावा कर रही हैं कि कोविड-19 के हल्के लक्षण वाले मरीज आइसोलेशन में बिना किसी स्पेशल ट्रीटमेंट के रिकवर हो सकते हैं. हालांकि डायबिटीज क्रॉनिक रेस्पिरेटरी डिसीज और कैंसर जैसी भंयकर बीमारियों के शिकार लोग गंभीर रूप से बीमार पड़ सकते हैं. ऐसे में आपको बिल्कुल भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए और तुरन्त ही डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.
ऐसे रखें अपना ख्याल- कोरोना वायरस के जानलेवा स्ट्रेन से बचने के लिए मुंह पर अच्छी तरह से मास्क पहनें. हाथों को अच्छी तरह सैनिटाइज करते या साबुन से धोते रहे. भीड़भाड़ वाले स्थानों में जाने से बचें. इसके साथ ही हेल्थ ऑथोरिटीज द्वारा जारी की जा रही गाइडलाइंस का कड़ाई से पालन करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × one =