हैरतअंगेज: पोस्टमॉर्टम करने जा रहे थे डॉक्टर तभी डेड बॉडी के खड़े हुए रोंगटे और फिर….

एक बेहद हैरतअंगेज मामले की जानकारी मिली है. दरअसल यहां कर्नाटक में एक 27 वर्षीय युवक का एक निजी अस्पताल के डॉक्टरों ने ब्रेन डेड घोषित कर दिया. युवक के म्रत घोषित होने के बाद उसे पोस्टमॉर्टम के लिए अटॉप्सी सेंटर ले जाया गया. लेकिन वहां पोस्टमॉर्टम शुरू होने से ठीक पहले युवक के हाथों के रोंगटे खड़े हो गए. युवक के शरीर में कुछ हल्का मूवमेंट भी हुआ.
युवक के पोस्टमार्टम की तैयारी कर रहे डॉक्टर भी ये देख चौंक गए. जिसके बाद युवक को तुरंत दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किया गया. अब दो दिन से युवक का इलाज चल रहा है.
आपको बता दें कि ये मामला कर्नाटक के महालिंगापुर का है. यहां 27 फरवरी को 27 वर्षीय शंकर गोंबी एक सड़क हादसे का शिकार हो गए. हादसे में गंभीर रूप से घायल शंकर को आनन-फानन में एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया. निजी अस्पताल ने दो दिन निगरानी में रखने के बाद 27 वर्षीय शंकर गोंबी को ब्रेन डेड घोषित कर दिया.
अस्पताल प्रबंधन ने शंकर के परिवार से कहा कि शंकर की बॉडी ले जाएं. सरकारी अस्पताल में पोस्टमॉर्टम कराएं. निजी अस्पताल से शंकर की बॉडी को बगलकोट स्थित महालिंगापुर सरकारी अस्पताल में भेज दिया गया.
वहीं, दूसरी तरफ शंकर के परिजन और रिश्तेदार उसके अंतिम संस्कार की तैयारी में जुटे थे. अस्पताल ने डॉ. एसएस गालगली को पोस्टमॉर्टम करने के लिए नियुक्त किया. ये खबर अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स में प्रकाशित हुई है.
इस मामले में डॉ. एसएस गालगली ने बताया कि जब मैं अस्पताल की ओर कार से जा रहा था, तब मैंने पूरे इलाके में शंकर के पोस्टर और बैनर देखे. कट आउट्स देखे. कुछ लोग एक्सीडेंट के विरोध में तो कुछ लोग शंकर की आत्मा की शांति के लिए प्रदर्शन कर रहे थे. मुझे समझ में आ गया कि मेरे पोस्टमॉर्टम टेबल पर कौन सा चेहरा दिखने वाला है.
डॉ. गालगली ने बताया कि जब वे अस्पताल पहुंचे तो शंकर गोंबी को वेंटिलेटर पर रखा हुआ था. शंकर के परिजनों ने डॉक्टर गालगली को बताया कि निजी अस्पताल के डॉक्टरों ने उनसे कहा है कि जैसे ही वेंटिलेटर हटाएंगे, शंकर की सांस रुक जाएगी, इसलिए पोस्टमॉर्टम से पहले तक वेंटिलेटर लगा रखा है. परिजन करते भी क्या, उम्मीद रहती ही है.
डॉ. गालगली ने बताया कि सरकारी अस्पताल के बाहर एक हजार से ज्यादा लोग जमा थे. मैंने शंकर की बॉडी को पोस्टमॉर्टम करने से पहले जांच करने की सोची. तभी मुझे उसके हाथों के रोंगटे खड़े हुए दिखाई दिए. उसकी हाथों में हल्की सी हलचल महसूस हुई. मैंने तुरंत पल्स ऑक्सीमीटर से उसकी धड़कन चेक की. उसकी नब्ज चल रही थी. मैंने उसका वेंटिलेटर हटा दिया. इसके बाद जो हुआ उससे सब लोग हैरत में पड़ गए.
डॉक्टर गालगली ने बताया कि शंकर का हाथ जोर से हिला. मैंने तुरंत शंकर के परिजनों को बुलाया, उन्हें ये खबर सुनाई. उनसे कहा कि दूसरे निजी अस्पताल में इसे ले जाइए, इसका इलाज कराइए. परिवार वाले तुरंत उसे दूसरे अस्पताल लेकर गए. वहां वो दो दिन से इलाज करा रहा है. जिंदा है और उसके शरीर के सभी अंग इलाज पर प्रतिक्रिया दे रहे.
डॉ. एएस गालगली ने बताया कि मैंने अपने 18 साल के करियर में 400 से ज्यादा पोस्टमॉर्टम किए हैं, लेकिन इस तरह का केस पहली बार देखा.
वहीं, जब बागलकोट पुलिस से इस हादसे और अस्पताल के मामले के बारे में प्रश्न किया गया तो एक पुलिस अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि अभी तक किसी ने कोई केस दर्ज नहीं कराया है.
पुलिस अधिकारी ने कहा कि मेडिकल लापरवाही के खिलाफ केस करने का फैसला जिला स्वास्थ्य विभाग का है. उन्हें फैसला लेना है कि वो निजी अस्पताल पर केस करें या ना करे. निजी अस्पताल के प्रबंधन से जब शंकर गोंबी के जिंदा होने की बात की गई तो किसी ने भी इस मामले में बात करने से इंकार कर दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen + 2 =

You may have missed