बच्चों के लिए कितनी खतरनाक है कोरोना वायरस की तीसरी लहर, जानिए क्या कहते है AIIMS प्रमुख डॉ. गुलेरिया

अब देश में कोरोना की दूसरी लहर में संक्रमण के दैनिक मामलों में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है. लेकिन इसके साथ ही कयास ये भी लगाए जा रहे हैं कि कोरोना की तीसरी लहर भी आ सकती है.
इन सबके बीच तीसरी लहर को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. बताया ये भी जा रहा है कि ये लहर बच्चों के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकती है.
लेकिन अब एम्स के डायरेक्टर डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि तीसरी लहर बच्चों पर असर डालेगी इसके कोई प्रमाण नहीं हैं.
आपको बता दें कि डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि दुनियाभर में किसी सर्वे से ऐसी बात नहीं निकली है. तीसरी वेव कब आ सकती है या बच्चों पर इसका क्या असर होगा, इसे लेकर अब तक कहीं डाटा ग्लोबल नहीं है कि बच्चे ज्यादा प्रभावित होंगे. इसका कोई प्रमाण नहीं है. अब तक दुनिया में डाटा नहीं है कि बच्चों में सीरियस इंफेक्शन हो.
डॉ गुलेरिया के मुताबिक, कोरोना की दूसरी लहर के दौरान भी जो बच्चे संक्रमित हुए वे हल्के ही बीमार पड़े. उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं लगता है कि भविष्य में बच्चों में किसी गंभीर संक्रमण का खतरा देखने को मिलेगा.


वहीं अगर बात करें देश में कोरोना वायरस के मामलों की तो बता दें कि दो महीनों से भी अधिक समय के बाद मंगलवार को देश में कोरोना संक्रमण के एक लाख से भी कम दैनिक मामले दर्ज किए गए हैं.
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा मंगलवार सुबह जारी आंकड़ों के मुताबिक, बीते 24 घंटों में देश में कोविड-19 संक्रमण के 86,498 नए मामले मिले हैं. यह आंकड़ा बीते 66 दिनों में सबसे कम हैं. अब भारत में कोरोना के सक्रिय संक्रमित मरीजों की संख्या 13 लाख के आंकड़े पर पहुंच गई है.
वहीं, बीते 24 घंटों में एक्टिव मरीजों की संख्या में 97,907 की गिरावट आई है, कुल सक्रिय मामलों की संख्या 13,03,702 हो गई है.
मालूम हो कि केंद्र सरकार ने मंगलवार को कहा कि उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नई टीका नीति की घोषणा करने के बाद कोविड-19 रोधी टीकों-कोविशील्ड और कोवैक्सीन की 44 करोड़ खुराकों के लिए ऑर्डर दिया है.
प्रधानमंत्री मोदी ने सोमवार को ये घोषणा की थी कि केंद्र राज्यों के खरीद कोटे को अपने हाथों में ले लेगा और 18 साल से ज्यादा उम्र वाले लोगों के लिए राज्यों को टीके मुफ्त में उपलब्ध कराए जाएंगे. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि विनिर्माताओं द्वारा कोविड रोधी टीकों की इन 44 करोड़ खुराकों की आपूर्ति दिसंबर तक उपलब्ध कराई जाएगी जिसकी शुरुआत अब से हो रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9 + four =