डायबिटीज के मरीज इतनी मात्रा में ही खा सकते है आम वर्ना साबित होगा नुकसानदायक

गर्मियां अपने चरम पर है और गर्मी में आने वाले सभी फल बाजारों में उपलब्ध हो गए है. गर्मियों के समय आने वाला फल और फलों का राजा ‘आम’ भी बाजार में भारी मात्रा में आ गए है.
आम जितना स्वादिष्ट होता है उतना ही फायदेमंद भी. लेकिन अति हर चीज की बुरी ही होती है. अब आम है ही इतना खास की ये ज़्यादातर लोगों का पसंदीदा होता है. लेकिन कुछ ऐसे लोग भी होते है जो डायबिटीज के मरीज होते हैं, जिनके मन में आम को लेकर कई तरह के प्रश्न होते है.
जैसे कि – क्या मधुमेह के मरीज़ आम का सेवन कर सकते है? अगर हाँ तो कितनी मात्रा में आम नुकसान नहीं करेगा? वगैरह वगैरह.
आइए आज जानते हैं कि क्या आम खाने से ब्लड शुगर बढ़ जाता है और डायबिटीज के मरीजों इसे कितनी मात्रा में खाना चाहिए.
आपको बता दें कि आम में सभी जरूरी विटामिन और मिनरल्स मौजूद होते हैं. ये ब्लड शुगर कंट्रोल करने में भी फायदेमंद होता है. एक कप कटे आम में 99 कैलोरी, 1.4 ग्राम प्रोटीन, ग्राम प्रोटीन, 25 ग्राम कार्ब,  22.5 ग्राम शुगर, 2.6 ग्राम फाइबर, 67% विटामिन C, 18% फोलेट, 10% विटामिन A और 10% विटामिन E होता है. यही नहीं आम में कुछ मात्रा में कैल्शियम, जिंक, आयरन और मैग्नीशियम होता है.
ब्लड शुगर पर आम का असर- आम में 90% से भी अधिक की कैलोरी इसकी मिठास से आती है. यही कारण है कि यह डायबिटीज के मरीजों में ब्लड शुगर को बढ़ाता है. हालांकि, इसके साथ ही आम में फाइबर और कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट भी होते हैं, जो ब्लड शुगर पर इसके असर को कम करते हैं.
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आम में पाया जाने वाला फाइबर खून से शुगर अवशोषित करने की दर को धीमा करता है, वहीं इसके एंटीऑक्सीडेंट ब्लड शुगर से जुड़े तनाव को कम करने में सहायता करते हैं. ये शरीर के अंदर कार्ब्स बनाने और ब्लड शुगर के स्तर को स्थिर करने को आसान बनाते हैं.


आम का ग्लाइसेमिक इंडेक्स- किसी भी फूड का ब्लड शुगर पर असर ग्लाइसेमिक इंडेक्स (GI) रैंक के जरिए जाना जाता है. इसकी माप 0-100 के स्केल पर किया जाता है. 55 से कम रैंक के किसी भी फूड को इस स्केल में कम शुगर का माना जाता है. इन फूड को डायबिटीज के मरीजों के लिए उपयुक्त माना जाता है.
आम का GI रैंक 51 है यानी डायबिटीज के मरीज भी इसे खा सकते हैं. लेकिन, फिर भी आपको ये याद रखना चाहिए कि हर किसी की बॉडी कुछ फूड पर अलग-अलग तरह से प्रतिक्रिया दे सकती है. आम में हेल्दी कार्ब होता है फिर भी ये ध्यान देना जरूरी है कि आप इसे कितनी मात्रा में खाते हैं. इसलिए अगर आपको डायबिटीज है और आप आम खाना चाहते हैं तो आपको बहुत सावधानी से इसे अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए. ब्लड शुगर ना बढ़े, इसके लिए आपको एक ही समय में बहुत सारा आम खाने से परहेज करना चाहिए.
यदि आपको डायबिटीज है तो 1/2 कप (82.5 ग्राम) आम खाकर देखें कि आपका ब्लड शुगर बढ़ता है या नहीं और अगर बढ़ता है तो कितना बढ़ता है. आप उस हिसाब से अपने आम खाने की मात्रा तय कर सकते हैं. आम में फाइबर ज्यादा होता है लेकिन प्रोटीन की मात्रा कम होती है. प्रोटीन ब्लड शुगर को कम करता है इसलिए डायबिटीज के मरीज आम के साथ प्रोटीन को मिलाकर एक बैलेंस्ड डाइट बना सकते हैं. आप आम के साथ उबले अंडे, चीज़ या फिर थोड़े से नट्स भी खा सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 − 4 =

You may have missed