बेटे की आत्‍महत्‍या के गम में माँ ने भी दी जान

नामकुम (रांची) रांची के नामकुम से एक दुखद खबर आई है। यहां 10 वर्षीय बच्चे बॉबी कुमार की आत्‍महत्‍या के बाद उसकी मां ने भी अपनी जान दे दी है।

बच्‍चे ने कल रविवार को अपने घर के बाथरूम में मां के दुपट्टे के सहारे फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। इस घटना के 24 घंटे बाद आज सोमवार को उसकी मां ने भी आत्‍महत्‍या कर ली। परिजनों की मानें तो बॉबी ने खेल-खेल में फांसी लगा ली है।

स्थानीय लोगों ने बताया कि बॉबी टिकटॉक वीडियो बनाया करता था। हमेशा इसी की बात किया करता था। बॉबी सेतु बाउरी का बेटा था और नामकुम बस्ती में हीराकांत के मकान में किराये पर रहता था। मां, बेटे की मौत का सदमा बर्दाश्‍त नहीं कर सकी और फंदे से झूल गई।

घटना के संबंध में 45 वर्षीया मृतका रेखा दादेल की 13 वर्षीया बेटी जिया ने बताया कि आज वह दुकान से सामान लेने गयी थी। जब वह दुकान से सामान लेकर घर आई, तो देखा कि माँ घर में नहीं है। उसने अपने पिता सेतु बाउरी से मां के बारे में पूछा, पर वह नहीं बता पाए।

इसके बाद उसने इधर-उधर ढूंढा, पर वह नहीं मिली। बाद में घर के बाथरूम में जाकर देखा तो उसकी माँ दुपट्टे के सहारे फंदे से झूलती मिली। इसके बाद उसने शोर मचाया, तो आसपास के लोगों ने आकर शव को फंदे से नीचे उतारा।

जिया ने बताया कि माँ बॉबी की आत्महत्या करने से तनाव में थी। रात में उसने कहा था कि वह अब बाॅबी के बगैर नहीं जी पाएगी और आत्महत्या कर लेगी। पर, उसे विश्वास नहीं था कि माँ ऐसा कर लेगी।

बॉबी के बड़े भाई शनि ने बताया कि उनकी मम्मी रेखा दादेल एवं पिता सेतु बाउरी किसी काम से ओडिशा गए हुए थे। घर पर बॉबी, शनि और 13 वर्षीया बहन थी। रविवार की सुबह बॉबी बाथरूम में नहाने गया था। काफी देर तक बाहर नहीं आने पर बहन ने आवाज लगाई। जवाब नहीं मिलने पर बहन ने जाकर देखा तो बॉबी उसकी मां के दुपट्टे के सहारे फांसी लगा चुका था।

बहन ने शोर मचाया तो आसपास के लोग आए और शव को नीचे उतारा। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए रिम्स भेज दिया है। बताया जाता है कि पूर्व में भी बॉबी ने हाथ की नस काटकर आत्महत्या का प्रयास किया था। वहीं मामले में पुलिस का कहना है कि प्रथम दृष्टया मामला आत्महत्या का लग रहा है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद स्थिति स्पष्ट हो पाएगी।

इस संबंध में नामकुम थानेदार प्रवीण कुमार ने बताया कि मैं सोमवार सुबह ही बस्ती गया था और बच्चे की माँ और उसके पिता को समझाकर आए थे। पुलिस और आमलोगों ने आर्थिक सहायता भी की थी। इधर, मां और बेटे के आत्महत्या करने से पूरी बस्ती में मातम छाया हुआ है।

रात में युवक खेल रहा था पब्जी गेम, सुबह फंदे से टंगा शव मिला

बोकारो स्थित बालीडीह के शिवपुरी कॉलोनी निवासी 18 वर्षीय रविन्द्र शर्मा का रविवार की सुबह अपने कमरे में फंदे से झूलता शव मिला। मृत युवक के बड़े भाई उपेंद्र विश्वकर्मा ने बताया कि उनका भाई पब्जी गेम खेलता था। शनिवार की रात 11 बजे तक वह गेम खेलता रहा। इसके बाद उसका मोबाइल ऑफ हो गया। इसके बाद वह सोने चला गया, सुबह शव फंदे से लटकता मिला। परिजनों ने पहले तो कहा कि यह हत्या फिर स्वीकार किया कि रविन्द्र ने आत्महत्या की है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही पुलिस प्रारंभिक तौर पर इसे आत्महत्या का मामला मान रही है।

बच्चों पर रखें नजर

जिस तरह से हम अपने बच्चों के हाथों में स्मार्टफोन थमा देते हैं और फिर नजर नहीं रखते कि वे इस पर देख क्या रहे हैं, यह खतरनाक है। वीडियो देखकर बच्चे तय नहीं कर पाते कि क्या सही है और क्या गलत। उनकी मन:स्थिति पर इसका गंभीर असर पड़ता है। जरूरी हो तभी बच्चों को स्मार्टफोन दें, अगर दें तो उस पर नजर रखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen − 13 =

You may have missed